सर्दियों (शीत ऋतु) के फूलों के नाम

मानव जीवन में प्रकृति का बहुत ही अधिक योगदान है, प्रकृति ने मानव और जीव-जंतुओं के लिए पेड़-पौधें और पुष्पों का निर्माण किया है, इन पुष्पों का रंग अपने बीज के अनुरूप होता है | भारत में लगभग सभी प्रकार की ऋतुएँ पायी जाती है | ऋतुओं के अनुरूप ही पुष्प भी पाएं जाते है | शीत ऋतु में सबसे अधिक फूल के पौधें लगाएं जाते है | यह ऋतु इन पौधों के लिए अनुकूल पायी जाती है | यहां पर आपको शीत ऋतु में लगायें जाने वाले फूल के पौधों के विषय में जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़ें: कृषि यंत्र पर सब्सिडी कैसे प्राप्त करें?

ये भी पढ़ें: सर्दी जुकाम और खांसी के घरेलू उपाय

सर्दियों (शीत ऋतु) के फूलों के नाम (Names of Winter Flowers)

शीत ऋतु में अन्य ऋतुओं की अपेक्षा अधिक फूल पाएं जाते है | इनके पौधें सितंबर से अक्टूबर के महीने तक लगाएं जाते है | भारत में कई फूल राज्यों में पायी जाने वाली मिट्टी के अनुसार होते है, कुछ विशेष फूलों के नाम इस प्रकार है-

स्वीट एलाइसम एंटरहिनम कैलेंडुला
एस्टर कार्न फ्लावर स्वीट सुलतान
क्राईसेंथेमस कॉसमास डहलिया
लार्कस्पर डायन्थस कार्नेशन
स्वीट विलियम कैलिफोर्निया पॉपी कैन्डीटफ्ट
स्वीटपी पेटूनिया पॉपी

ये भी पढ़ें: आईक्यू (IQ) फुल फॉर्म

ये भी पढ़ें: जीवन में सफलता कैसे प्राप्त करें?

शीत ऋतु में कौन से फूल के पौधे (Flower Plants) लगाए

आप शीत ऋतु के समय इस प्रकार के पौधें लगा सकते है-

फूल का नाम प्रसारण विधि फूल लगने का समय
एक्रोक्लाईनम बीज 3
हॉली हॉक बीज 3-4
स्वीट एलाईसम बीज/बिचड़ा 1.5-2
एन्टरहिनम बिचड़ा 2.5-4
आर्कटोटिस बिचड़ा 3-4
कैलेन्डुला बिचड़ा 2-3
एस्टर बिचड़ा 3-4
कार्नफ्लावर बिचड़ा/बीज 3.3.5
स्वीट सुल्तान या कार्नफ्लावर बिचड़ा/बीज 3-3.5
एनुअल क्राईसैन्थेमम बिचड़ा/बीज 3
कॉसमॉस बिचड़ा/बीज 2-3
डहलिया बीज, कर्त्तन एवं कंद 3.3.5
लार्कस्पर बिचड़ा/बीज 3.3.5
डायंथस बिचड़ा/बीज 3-4
कार्नेशन बिचड़ा/बीज 3-4
हेलिक्राईसम बीज 3-3.5
कैंडीटफ्ट बीज 2-2.5
स्वीट पी बीज 3
लाईनेरीया बीज 3
मेसेम्व्रेन्थम (आइस प्लान्ट) बिचड़ा/बीज 3
पिटुनिया बीज/बिचड़ा 3
फ्लाक्स बीज/बिचड़ा 3-3.5
कैलिफोर्निया पॉपी बीज/बिचड़ा 3-3.5
शार्ली पॉपी बीज/बिचड़ा 2-2.5
अफ़्रीकी गेंदा बीज/बिचड़ा 3
फ्रेंच गेंदा बीज/बिचड़ा 2.5.-3
सालविया बीज/बिचड़ा 3
नास्टरशियम बीज 2.5.-3
वरबीना बीज 2.5.-3
पैन्जी बीज/बिचड़ा 2.5.-3
गजेनिया बिचड़ा 3
क्लीयोम बिचड़ा 2-3
सिनरेरिया बिचड़ा 2-3
एजरेटम बिचड़ा 2
डाइमाफोर्थिका बिचड़ा 3
ल्यूपिन बिचड़ा 2-3
पोटुलाका बीज 2

ये भी पढ़ें: भारत का नक्शा किसने बनाया था?

पौधों की देखभाल (Plant Care)

पौधों को लगाने के बाद इनकी उचित देखभाल करने की आवश्यकता होती है, जिससे पौधों को सही समय पर पोषक तत्व मिल सके | पौधे लगाने के पश्चात क्यारियों में समय-समय पर निकलने वाली घास को बाहर निकालते रहना चाहिए | पौधें अपना पोषक तत्व धूप, मिट्टी और पानी से प्राप्त करते है अतः इन सभी की पूर्ति करना अत्यंत आवश्यक है |

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना क्या है?

यहाँ पर आपको शीत ऋतु में लगायें जाने वाले फूल के पौधों के विषय में जानकारी दी गयी है | इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप https://usidcl.com पर विजिट कर सकते है | अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री (PM) को पत्र कैसे लिखे?

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में कितनी तहसील है?

ये भी पढ़ें: भारत के राज्य और राजधानी की सूची