वीआरएस (VRS) क्या होता है

वीआरएस का सम्बन्ध प्रमुख रूप से कर्मचारियों से होता है | यह सभी संस्थाओं पर लागू होता है सरकारी हो या फिर गैर – सरकारी | इसके द्वारा कर्मचारियों को कम्पनी आवश्यकतानुसार रिटायर कर सकती है | इसमें सिर्फ पुराने कर्मचारियों को ही रिटायरमेंट दिया जा सकता है, नए कर्मचारी इसके नियम के अंतर्गत नहीं होंगे | इसलिए देश के प्रत्येक  कर्मचारी को वीआरएस के बारे में पूर्ण जानकारी होनी आवश्यक है | आपको यहाँ पर, वीआरएस (VRS) क्या होता है | VRS Ka Full फॉर्म क्या होता है ?, इसके बारे में जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़े: राष्ट्रपति शासन क्या होता है?

वीआरएस (VRS)  

अतिरिक्त कर्मचारियों को कम करने के लिए कम्पनियों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला नियम वीआरएस के अंतर्गत होता है | वर्तमान व्यसायिक परिदृश्य में एक सगंठन में मानव शक्ति के अधिकार का आधार बनने वाली पर्तिस्पर्धा को पूरा करने के लिए एक महत्वपूर्ण  प्रबंधन रणनीति बनाई गई है | वीआरएस कर्मचारियों की मौजूदा ताकत में कमी लाने के लिए सबसे मानवीय तकनीक मानी जाती है | यह अब एक सामन्य पद्धति है जो अतिरिक्त जनशक्ति को बांटने और संगठन में सुधार करने के लिए उपयोग में लाया जाता  है | कम्पनी से स्वेच्छा से रिटायर होने के लिए कर्मचारियों को मनाने के लिए यह एक सबसे सरल नियम है | इसके अलावा इसे गोल्डन हैण्ड शैक के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि, यह कर्मचारियों को सही से छांटने का एक बहुत बेहतरीन रास्ता है |

वीआरएस का फुल फॉर्म क्या है? (Meaning in Hindi)

Valuntry Retriement Scheme “इसे हिंदी में ” स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना” कहा जाता है | भारत में औद्योगिक विवाद अधिनियम, 1947 छंटनी के अंतर्गत, प्रतिष्‍ठानों को बंद करके, और कर्मचारी स्टाफ को कम करने के मामलों में नियोजकों को प्रतिबंधित करता है और इस प्रक्रिया के तहत बहुत से नियम कानून बनाये गए हैं।

ये भी पढ़े: ब्लाक प्रमुख का चुनाव कैसे होता है

कब लागू होता है इसका नियम

कुछ बताई जा रही परिस्थियों में स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति योजना का विकल्प चुना जा सकता है | जो इस प्रकार से है –

  • व्यापार में मंदी आ जाने पर यह लागू किया जाता है |
  • व्यापार में बढ़ते कम्पटीशन के कारण, जब तक स्थिति में सुधार ना आ जाये |
  • विदेशी सहयोगियों के साथ संयुक्‍त उद्यमों के कारण।
  • कम्पनी अधिग्रहण या विलय होने पर यह प्रक्रिया की जा सकती है |
  • उत्‍पाद/प्रौद्योगिकी को पुरानी तरीके से चलाने के कारण |

ये भी पढ़े: भारत के राज्य और राजधानी की सूची

वीआरएस के नियम 

1.एक कर्मचारी जो 50 साल की आयु का हो गया हो या जिसने 20 साल की सेवा समाप्त कर ली है वह वीआरएस के पत्र होंगे |

2.इसके बाद फिर वो वीआरएस लेने के लिए, सबसे पहले नियुक्ति प्राधिकारी को प्रत्यक्ष रूप सेएक नोटिस लिखकर 3 महीने पहलेभेज देंगा |

3.फिर वीआरएस के लिए दी गई नोटिस नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा 3 महीने की नोटिस की एफडी प्राप्त होने के तिथि से गणना की जाएगी |

4.यह सूचना देने से पहले एक कर्मचारी को नियुक्ति प्राधिकारी को पूर्ण रूप से संतुष्ट करना रहता है कि, वे अपने क्वालिफाइंग सर्विस को पूरा कर चुके है जब नियुक्ता पूर्ण रूप से संतुष्ट हो जाएगा कि कर्मचारी ने 20 साल पूरे कर लिए है तो वे वीआरएस दे सकते है और कर्मचारी वीआरएस ले सकते है |

यहाँ पर आपको वीआरएस (VRS) क्या होता है | VRS Ka Full Form के विषय में जानकारी दी गयी है इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप www.usidcl.com पर विजिट कर सकते है |  इसके साथ ही यदि  आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़े: भारत के प्रसिद्ध मंदिरों की सूची हिंदी में

ये भी पढ़े: सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया क्या होता है?

ये भी पढ़े: केंद्र शासित प्रदेश का मतलब क्या होता है?