UPPCF (यूपीपीसीएफ) क्या है?

भारत सरकार और राज्य सरकार कृषकों के लिए नयी योजनाओं को लाकर किसानों को अधिक से अधिक लाभ देने का प्रयास करती है | इसके लिए वह आवश्यकता के अनुसार नयी- नयी संस्था का गठन करती है | उत्तर प्रदेश एक बड़ा राज्य है, यहाँ की किसानों को बिचौलियों से बचाने के लिए UPPCF (यूपीपीसीएफ) का गठन किया गया था | इस संस्था के द्वारा उर्वरकों का वितरण, कृषि उपजों का विपणन और कृषक सेवा केन्द्र बीज से संबधित सेवाएं प्रदान की जाती है |

ये भी पढ़ें: गन्ना पर्ची कैलेंडर कैसे देखे?

ये भी पढ़ें: सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक की सूची

UPPCF (यूपीपीसीएफ) क्या है? 

उत्तर प्रदेश राज्य में उत्तर प्रदेश कोआपरेटिव फेडरेशन लि0 (पी0सी0एफ0) की स्थापना 11 जून 1943 को गयी थी | इसकी स्थापना का मुख्य उद्देश्य कृषकों को बिचैलियों के शोषण से मुक्त कराना है | कृषकों को उनकी फसल का उचित मूल्य प्रदान कराना तथा उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाना है | यूपीपीसीएफ ने जनहित में सरकारी नीतियों को लागू करने में अग्रणी भूमिका का निर्वहन किया है | किसानों को आपूर्ति प्रदान करने के लिए प्रत्येक राज्य में जिला कार्यालय एवं मण्डल में क्षेत्रीय कार्यालयो की स्थापना की गयी है |

ये भी पढ़ें: सूचना का अधिकार अधिनियम (RTI)

पी०सी०एफ० द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं

  • उर्वरकों का वितरण
  • कृषि उपजों का विपणन
  • कोयला वितरण
  • कृषक सेवा केन्द्र
  • बीज / कृषि रक्षा रसायन
  • लेवीचीनी का वितरण

ये भी पढ़ें: पटवारी (PATWARI) कैसे बने?

उर्वरकों (Fertilizers) का वितरण

कृभको, इफ्‌को, एन०एफ०एल० आदि उर्वरक निर्माताओं के उत्पादों की आपूर्ति पी०सी०एफ० के द्वारा की जाती है | इसका निर्धारण सहकारी समितियों एवं कृषक सेवा केन्द्र के माध्यम से सुनिश्चित किया जाता है | सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्यों के अनुरूप यह जिंक सल्फेट की उपलब्धता प्रदान कराती है |

ये भी पढ़ें: बिजली का नया कनेक्शन कैसे ले?

कृषि उपजों का विपणन (Marketing of Agricultural Produce)

किसानों को उचित मूल्य प्रदान करने के लिए सहकारी क्रय-विक्रय समितियों के माध्यम से प्रदेश के अन्दर एवं अन्य प्रदेशों के सहकारी संघों व नैफेड के द्वारा फसलों का क्रय-विक्रय प्रक्रिया की जाती है |

कोयला वितरण (Coal Distribution)

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार और कोल इण्डिया लि० के द्वारा बनाये गए नियमों के अनुसार कोयले का आवंटन जिलाधिकारियों की संस्तुति के आधार पर ईंट भट्‌ठा मालिकों को कोयला प्रदान किया जाता है |

ये भी पढ़ें: अपनी जमीन कैसे देखे?

बीज / कृषि रक्षा रसायन

किसानों को शासन द्वारा अनुमन्य अनुदान को घटाकर उ०प्र० बीज विकास निगम, कृभको, एन०एस०सी० से उच्च्तम प्रजाति के प्रमाणित बीज (रबी एवं खरीफ की फसलों के लिए) प्रदान किये जाते है |

लेवीचीनी का वितरण

वर्ष 1981 से विभिन्न चीनी मिलों से लेवीचीनी को प्राप्त करके इसे शर्करा निदेशालय, भारत सरकार के रिलीज आर्डर के अनुसार जनपदीय गोदामों में पी०सी०एफ० के द्वारा भण्डारण किया जाता है | इस चीनी को सार्वजनिक वितरण प्रणाली के द्वारा राशन कार्ड उपभोक्ताओं को वितरित किया जाता है |

मूल्य समर्थन योजना (Price Support Scheme)

कृषकों को फसल का उचित मूल्य प्रदान करने के लिए भारत सरकार एवं राज्य सरकार मूल्य समर्थन योजना के अन्तर्गत कृषक सेवा केन्द्रों एवं सहकारी समितियों के माध्यम से फसल का क्रय करती है | इसके बाद किसानों को चेक के माध्यम से तत्काल भुगतान कर दिया जाता है | यह पूरी प्रक्रिया पी०सी०एफ० की देख- रेख में संपन्न की जाती है |

ये भी पढ़ें: जज (JUDGE) कैसे बने?

प्रबन्ध (Management)

उत्तर प्रदेश कोआपरेटिव फेडरेशन लि0 (पी0सी0एफ0) का सर्वोच्च अधिकार सामान्य निकाय में निहित है | सामान्य निकाय के द्वारा प्रबन्ध समिति के 14 सदस्यों का चुनाव किया जाता है, इसमें दो सदस्य राज्य सरकार के द्वारा निर्धारित किये जाते है |

उद्देश्य (Purpose)

उत्तर प्रदेश कोआपरेटिव फेडरेशन लि0 (पी0सी0एफ0) के मुख्य उद्देश्य इस प्रकार है-

1.कृषि उपज का क्रय-विक्रय तथा विधायन (प्रोसेसिंग) |

2.किसानों को कृषि कार्य हेतु आवश्यक वस्तुओं जैसे बीज, उर्वरक, कृषि रक्षा रसायन आदि प्रदान करना है |

3.भण्डारगृहों एवं शीतगृहों का निर्माण कराना और उनका सही ढंग से संचालन करना है |

4.इसमें जो संस्थाएं भाग लेती है उनको परामर्श एवं सहयोग प्रदान करना है |

ये भी पढ़ें: क्लर्क (CLERK) कैसे बने?

ये भी पढ़ें: अपनी राशि (HOROSCOPE) कैसे जाने?

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री (CM) को पत्र कैसे लिखे?

ये भी पढ़ें: ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?