टीआरपी (TRP) का मतलब क्या होता है

टीआरपी का सीधा संबंध टीवी अर्थात टेलीविजन से है| यदि आप टीवी देखने के शौक़ीन है, तो आपने टीआरपी शब्द अवश्य ही सुना होगा| जब आप अपना मनपसंद चैनल देख रहे होते है, उस समय पर आने वाले विज्ञापन टीआरपी  आधारित ही होते हैं| अब आपके मन में यह प्रश्न अवश्य आया होगा, कि आखिर का टीवी पर आने वाले विज्ञापन टीआरपी पर आधारित कैसे होते हैं? तो आईये जानते है, कि टीआरपी का मतलब क्या होता है, और यह कैसे कार्य करता है|

ये भी पढ़े: टेलीकॉम स्पेक्ट्रम क्या होता है?    

टीआरपी क्या है (TRP Kya Hai)

आजकल टेलीविजन पर अपना मनपसंद धारावाहिक, न्यूज और मूवी देखना हर कोई पसंद करता हैं| जिसके लिए उन्हें टीवी पर काफी समय व्यतीत करना पड़ता है, अर्थात टीवी के सामने बैठे रहते हैं | उनका अधिक टीवी देखना ही टीआरपी को प्रभावित करता है क्योंकि, यह  टीवी से जुड़ा एक ऐसा टूल है, जिसकी सहायता से यह जानकारी प्राप्त होती है कि मुख्य रूप से किस टीवी शो को कितने लोग पसंद कर रहे हैं| टीआरपी के माध्यम से यह जानकारी भी प्राप्त होती है, कि किस शो को दिन में  कितने बार देखा गया है| इसके साथ ही यह जानकारी भी प्राप्त होती है, कि किस सीरियल सबसे अधिक देखा जा रहा है |

ये भी पढ़े: एक परिवार एक नौकरी योजना क्या है

भारत में इंडियन टेलिविजन ऑडियंस मेजरमेंट नाम की एक एजेंसी है, जो टीवी चैनलों के टीआरपी का अनुमान लगाने का कार्य  करती हैं। यह एजेंसी विभिन्न फ्रीक्वेंसी की जांच करके यह जानकारी प्राप्त करती है, कि कौन सा टीवी चैनल किस समय पर सबसे अधिक देखा गया है। इसी तरह से यह कंपनी कई हजार फ्रीक्वेंसी का विवरण एकत्र कर पूरे देश के प्रसिद्ध धारावाहिकों का अनुमान लगाती है।

ये भी पढ़े: आईआरडीए (IRDA) का फुल फॉर्म क्या है?

जिसके कारण किसी भी प्रोग्राम या चैनल की पॉपुलारिटी को समझने में मदद मिलती है और आसानी से यह ज्ञात हो जाता है कि कौन सा चैनल सबसे ज्यादा देखा जाता है। जिस चैनल को जितने ज्यादा लोग देखेंगे, जितने ज्यादा समय तक देखा जाएगा उस चैनल की टीआरपी उतनी अधिक होगी। इस टीआरपी से एडवरटाइजर को लाभ होता है, और उन्हें ऐड देने के लिए ढूंढने में आसानी होती है।

ये भी पढ़े: सिंगल यूज प्लास्टिक क्या है?

टीआरपी का फुल फॉर्म क्या है (TRP Full Form) 

टीआरपी (TRP) का फुल फार्म “Television Rating Point” होता है |

टीआरपी कैसे मापी जाती है  (Measurement Of TRP)

टीआरपी एक अनुमानित आकड़ा देता है, इस बात को स्पष्ट रूप से नही कहा जा सकता, कि जिस चैनल या प्रोग्राम की टीआरपी सबसे अधिक आ रही है, वह लोगो में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है, क्योकि टीआरपी मापने वाला डिवाइस पूरे देश में 50 से 60 हज़ार घरो में ही है, और इन्ही 50 से 60 हज़ार को एक सैम्पल के रूप में लिया जाता है|  इस डिवाइस को People’s Meter कहा जाता है।  यह डिवाइस लोगो द्वारा देखे जाने वाले  चैनल के बारे में डाटा रिकॉर्ड करता हैं|

टीआरपी मापने के पैमाने (TRP Measuring Scale)

टीआरपी मापने के 2 पैमाने है, जिनका विवरण इस प्रकार है –

  • दर्शको की संख्या – चैनल या प्रोग्राम की TRP मापने का एक पैमाना यह होता है कि एक समय में कितने लोग उसे देख रहे है|
  • समय – TRP मापने का दूसरा पैमाना है, कि उसे औसतन कितने समय तक देखा जा रहा है|

ये भी पढ़े: इंस्टाग्राम क्या होता है?

इन दोनों पैमानों के आधार पर TRP मापी जाती है।  अब उसे एक उदाहरण से समझते है, जैसे कि एक चैनल को 30 लोगो द्वारा 10 मिनट तक देखा गया, जबकि दूसरे चैनल को 20 लोगो द्वारा 30 मिनट तक देखा गया|

एक चैनल को 30×10 = 300 मिनट देखा गया और और दूसरे चैनल को 20×30= 600 मिनट तक देखा गया तो दूसरे चैनल की TRP अधिक मानी जाएगी |

यहाँ पर आपको हमनें टीआरपी के विषय में बताया | इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप https://usidcl.com/ पर विजिट कर सकते है | यदि आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़े: UPPCF (यूपीपीसीएफ) क्या है?

ये भी पढ़े: भारत के राज्य और राजधानी की सूची

ये भी पढ़े: उपभोक्ता फोरम में ऑनलाइन शिकायत कैसे करें?