टीचर (Teacher) कैसे बने

टीचर का हिंदी में अर्थ होता है, गुरु और गुरु का मतलब होता है, जो सबसे श्रेष्ठ होता है और वहीं बच्चों को अच्छा ज्ञान देते है, जिन्हे अध्यापक या टीचर कहा जाता है | दुनिया में बहुत से ऐसे अभ्यर्थी हैं जिनका टीचर बनने का सपना होता है | वह सोचते हैं कि, पहले जैसे वो अपने टीचर से शिक्षा ग्रहण करते हैं वैसे वो भी बड़े होकर बच्चों को  शिक्षा देने का कार्य करे और एक अच्छा शिक्षक बन सके क्योंकि, एक टीचर ही होता जो बच्चों को सही राह पर चलना  सिखाता  है | टीचर का पद एक सम्मानजनक पद होता है, जिसमें सैलरी भी अच्छी मिलती है | यदि आप एक टीचर बनना चाहते है, तो यहाँ पर आपको  टीचर (Teacher) कैसे बने,योग्यता, आयु, कोर्स, सैलरी की पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है |

ये भी पढ़े: इंश्योरेंस एजेंट (INSURANCE AGENT) कैसे बनें

टीचर कैसे बने 

एक टीचर बनने के लिए अभ्यर्थी को  कठिन परिश्रम करना होता है, क्योंकि, इसके लिए अभ्यर्थियों को कई परीक्षाओं से गुजरना होता है, जिसके लिए आपको पढ़ाई में कड़ी से कड़ी मेहनत करनी होती है | एक अध्यापक बनने के लिए आपको 12 पास करने के बाद से ही इसकी तैयारी शुरू देनी चाहिए, क्योंकि टीचर बनने के लिए कुछ कोर्स करने जरूरी होते हैं, जिसके बाद ही आप टीचर का पद प्राप्त कर सकते है |

टीचर बनने हेतु योग्यता 

टीचर बनने का सपना देखने वाले अभ्यर्थी को अपने पसंदीदा विषय से किसी कॉलेज से  मास्टर डिग्री प्राप्त करनी होती है | एक टीचर बनने के लिए आपको बहुत ज्यादा डिग्री प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं होती है लेकिन यदि आप छोटे क्लास के टीचर की नौकरी पाना चाहते है |तो इसके लिए आपको कुछ अलग से कोर्स करने होते है | इन कोर्सों को करने के बाद टीचर बन जाएंगे |

आयु सीमा 

टीचर बनने वाले उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 40 होनी चाहिए | वहीं जो अभ्यर्थी केंद्रीय  विद्यालयों में ट्रेन्ड ग्रेजुएट टीचर्स या TGTs के जॉब के लिए आवेदन  करते है तो   उनके लिए अधिकतम आयु सीमा – 35 साल तय की गई है | इसके अतिरिक्त केंद्रीय विद्यालयों में प्राइमरी टीचर या PRT के जॉब के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों के  लिए अधिकतम आयु सीमा-30 साल तय की गई है |

ये भी पढ़े: एसएससी CHSL परीक्षा तैयारी कैसे करे?

टीचर बनने के लिए कोर्स 

जेबीटी ( जूनियर टीचर ट्रेनिंग ) का कोर्स 

यदि आप प्राइमरी टीचर बनना चाहते है, तो आपको जूनियर टीचर ट्रेनिंग का कोर्स होता है | आप इस कोर्स को 12th पास करने के बाद कर सकते हैं | इस कोर्स के लिए आपका प्रवेश मेरिट और प्रवेश परीक्षा के आधार पर किया जाता है | यह कोर्स पूरा हो जाने के बाद अभ्यर्थियों को HTET और CTET के टेस्ट देने होते है, जिसके बाद आप एक जूनियर टीचर के लिए आवेदन कर सकते है |

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री महिला शक्ति केंद्र योजना (PMMSY)

बीपीएड ( बैचलर इन फिजिकल एजुकेशन ) 

सभी स्कूलों में अभ्यर्थी फिजिकल एजुकेशन का विषय भी पढ़ने लगे हैं इस विषय से अभ्यर्थियों को टीचर बनने का अवसर दिया जाने लगा है | जिन अभ्यर्थियों ने अपना  ग्रेजुएशन  फिजिकल एजुकेशन से पास किया है और वो अभ्यर्थी सरकारी टीचर बनना चाहते तो वो इसके लिए बीपीएड का कोर्स कर सकते है, क्योंकि इस समय निजी और सरकारी स्कूलों में फिजिकल से सम्बंधित नॉलेज देने वाले फिजिकल टीचरों की भर्ती हो रही है | 12th में फिजिकल एजुकेशन पढ़ने वाले अभ्यर्थी इसके लिए तीन साल  का  ग्रजुएट कोर्स कर सकते है  जिसके  लिए उन्हें एंट्रेस   एग्जाम में शामिल होना होता है और एंट्रेस   एग्जाम   में सफलता प्राप्त कर लेने के बाद अभ्यर्थी को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है | इंटरव्यू क्रैक कर लेने के बाद अभ्यर्थी किसी सरकारी स्कूल में सरकारी टीचर बन सकते है |

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री महिला शक्ति केंद्र योजना (PMMSY)

बीएड (बैचलर ऑफ एजुकेशन )

आप यह कोर्स ग्रेजुएशन करने के बाद कर सकते है | इस कोर्स को करने वाले अभ्यर्थी सीनियर सेकेंडरी स्कूल के टीचर बन जाएंगे | पहले यह कोर्स केवल एक साल का करना होता था लेकिन, वर्ष 2015 से इसे दो साल का कर दिया गया है |  इस कोर्स को करने के लिए अभ्यर्थियों को पहले एंट्रेस एग्जाम देना होता है जिसके लिए अभ्यर्थियों को ग्रेजुएट होना जरूरी है | इस कोर्स को पूरा कर लेने के बाद अभ्यर्थी सीनियर सेकेंडरी स्कूल में टीचर बन सकता है |

बीटीसी (बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफिकेट )

इस कोर्स को केवल उत्तर प्रदेश के ही अभ्यर्थी कर सकते है | यह कोर्स दो साल का होता है | जो अभ्यर्थी इस कोर्स को करना चाहते है तो उन्हें पहले एंट्रेस एग्जाम देना होता है | इसके बाद उन्हें मेरिट के आधार पर एडमिशन दिया जाता है | इस कोर्स को ग्रेजुएट अभ्यर्थी ही कर सकते है | इस कोर्स को करने वाले अभ्यर्थी प्राइमरी टीचर के लिए अप्लाई कर सकते है |

टीचर की सैलरी

इसमें टीचरों की सैलरी के तौर पर 9300 वेतनमान, 4200 रुपए ग्रेड पे, 16875 रुपए डीए शामिल है। नया वेतनमान- 35400 रुपए  सैलरी टीचरों को दी जाती है । नये वेतन में मूल वेतन में 2.83 का गुणा करने पर 34695 रुपए बनता है, लेकिन फर्स्ट स्लैब 35400 रुपए है।

ये भी पढ़े:  एसएससी CHSL परीक्षा तैयारी कैसे करे?

यहाँ पर हमने आपको टीचर बनने के विषय में सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध कराई है |   यदि आपको इससे  सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप  अपने विचार या सुझाव कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूंछ सकते है | इसके साथ ही यदि आप अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो www.usidcl.com पर विजिट कर सकते है |

ये भी पढ़े: सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया क्या होता है?

ये भी पढ़े:  प्रॉपर्टी डीलर (PROPERTY DEALER) कैसे बने

ये भी पढ़े: आर्थिक मंदी (ECONOMIC RECESSION) क्या है

ये भी पढ़े:  एसएससी CHSL परीक्षा तैयारी कैसे करे?