सिंगल यूज प्लास्टिक क्या है?

भारत में प्रदूषण के कारण कई बिमारियों का जन्म हो रहा है, जिससे आम जन मानस प्रभावित होता है | प्रदूषण को कम करने के लिए भारत सरकार ने कई बड़ी योजनाओं को शुरू किया है | भारतीय प्रधानमंत्री ने सभी भारतीयों को जागरूक करने के लिए सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग न करने का आग्रह किया है | सिंगल यूज प्लास्टिक को रोकने के लिए प्रशासनिक स्तर पर भी कड़े कदम उठाये जा रहे है, अतः हमे सिंगल यूज प्लास्टिक के विषय में जानकारी होना अत्यंत आवश्यक है |

ये भी पढ़ें: बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना

ये भी पढ़ें: आरबीआई ग्रेड बी परीक्षा क्या है?

सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic) क्या है ?

दैनिक जीवन में हम प्रति दिन कई प्‍लास्टिक के प्रोडक्‍ट का प्रयोग करते है | एक बार प्रयोग करने के बाद हम उस प्‍लास्टिक को फेंक देते है | इस प्रकार की प्‍लास्टिक को सिंगल यूज प्‍लास्टिक कहा जाता है | सिंगल यूज प्‍लास्टिक को डिस्पोजेबल प्‍लास्टिक के नाम से भी जाना जाता है | यह प्‍लास्टिक हम प्लास्टिक बैग, प्लास्टिक की बोतलें, स्ट्रॉ, कप, प्लेट्स, फूड पैकजिंग प्लास्टिक, गिफ्ट रैपर्स और कॉफी के डिस्पोजेबल कप्स के रूप में प्रयोग करते है |

ये भी पढ़ें: UPPCF (यूपीपीसीएफ) क्या है?

ये भी पढ़ें: निवास प्रमाण पत्र (DOMICILE CERTIFICATE)

सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic)  से हानि (Loss)

वर्तमान समय में जलवायु परिवर्तन बहुत बड़ी समस्या बन कर विश्व के समक्ष प्रस्तुत हो रहा है | जलवायु परिवर्तन से पृथ्वी के तापमान में अत्यधिक वृद्धि हो रही है | तापमान वृद्धि से प्राकृतिक आपदाओं में वृद्धि हो रही है जिससे जन-जीवन पूरी तरह से प्रभावित हो रहा है | भारत सहित विश्व में कई लाख टन प्लास्टिक का उत्पादन किया जाता है | यह प्लास्टिक मिट्टी में क्षरण या नष्ट नहीं होता है जिससे प्लास्टिक से पैदा होने वाले प्रदूषण में अत्यधिक वृद्धि हुई है |

ये भी पढ़ें: आय प्रमाण पत्र (INCOME CERTIFICATE)

सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रभाव (Effect)

सिंगल यूज प्‍लास्टिक के कुल उत्पादन का केवल 7.5 प्रतिशत ही रीसाइक्लिंग हो पता है | शेष बची प्लास्टिक मिट्टी के साथ मिलकर समुद्र में पहुंच जाती है | समुद्र में यह प्लास्टिक कुछ जहरीले रसायन में परिवर्तित हो जाते है | यह रसायन समुद्री जीव में पहुंचते है जिनसे उनकी मृत्यु हो जाती है | समुद्री जल का प्रयोग मानव भी करता है | इस प्रकार यह रसायन पानी और खाद्य सामग्रियों के द्वारा हमारे शरीर में पहुंच जाते है जिससे मानव शरीर रोगग्रस्त हो जाता है और सही उपचार न होने के कारण मनुष्य की मृत्यु भी हो जाती है | भारत में अभी लोग गरीबी रेखा के नीचे अपना जीवन व्यतीत कर रहे है | यह लोग मंहगा उपचार कराने में असफल रहते है जिससे इनकी मृत्यु हो जाती है या कोई अंग सही ढंग से कार्य नहीं करता है | जिससे परिवार को दयनीय आर्थिक स्थिति का सामना करना पड़ता है |

ये भी पढ़ें: केंद्र शासित प्रदेश का मतलब क्या होता है?

यहाँ पर आपको सिंगल यूज प्लास्टिक के विषय में जानकारी दी गयी है | इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप https://usidcl.com पर विजिट कर सकते है | अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़ें: बीटेक (B.TECH) क्या है?

ये भी पढ़ें: ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?

ये भी पढ़ें: ग्राम प्रधान (GRAM PRADHAN) कैसे बने?