आईपीएस (IPS) ऑफिसर कैसे बने

आईपीएस (IPS) ऑफिसर एक बड़ी अधिकारी रैंक की पोस्ट होती है,जिसका काम देश की सुरक्षा करना होता है |  IPS बनने  वाले सभी अभ्यर्थियों को सिविल सर्विस एग्जाम उत्तीर्ण करना होता है। इस पद के लिए  प्रत्येक वर्ष आवेदन जारी किये जाते है, जिसमें बड़ी तादाद में अभ्यर्थी आवेदन करते है | वहीं, प्रत्येक वर्ष UPSC (Union Public service Commission) इस परीक्षा का आयोजन करती है।  इसलिए यदि आप भी आईपीएस (IPS) ऑफिसर बनना चाहते हैं तो यहाँ पर आईपीएस (IPS) ऑफिसर कैसे बने | सैलरी, योग्यता, आईपीएस के अधिकार, फुल फॉर्म क्या है? के विषय में जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़े: ब्लाक प्रमुख का चुनाव कैसे होता है

आईपीएस (IPS) ऑफिसर कैसे बने ?

वर्ष 1948 में आईपीएस (IPS) ऑफिसर के पद  की  स्थापना  की गयी थी | आईपीएस कैडर गृह मंत्रालय के अधीन होता  है क्योंकि, गृह मंत्रालय द्वारा ही इसका पूरा नियंत्रण किया जाता है | आईपीएस (IPS) ऑफिसर बनने के लिए सिविल सर्विस परीक्षा पास करनी होती है | इस परीक्षा का आयोजन प्रति वर्ष UPSC (यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन) के द्वारा किया जाता है, जिसमे सफलता हासिल करने वाले अभ्यर्थियों को ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है ट्रेनिंग पूरी होने पर उस अभ्यर्थी को आईपीएस के पद  के लिए नियुक्त कर लिया जाता है |

आईपीएस किसे कहते है? फुल फॉर्म –

आईपीएस (IPS) का फुल फॉर्म  “इडियन पुलिस सर्विस” (INDIA POLICE SERVICE) होता है,  जिसमें अभ्यर्थी की भर्ती संघ लोक सेवा आयोग के माध्यम से होती है, एक आईपीएस अधिकारी  का मुख्य काम कानून और कुख्यात अपराधियों को अपराध करने से  रोकने का होता है आईपीएस ऑफिसर अपराधियों को सजा देने के लिए  उन्हें गिरफ्तार करता है | इसके साथ ही वह अपराध को रोकने के साथ-साथ नशीली दवाओं की तस्करी, मानव तस्करी, सीमा सुरक्षा को बनाए रखने, आतंकवाद को रोकने, रेलवे पुलिस और साइबर अपराधों का निरीक्षण करने का काम करता है | इसके अतिरिक्त वह इन सभी गैर कानूनों कामो पर  नजर रखता है |

सभी आईपीएस अधिकारियों को  सीबीआई (CBI), रॉ (RAW), और आईबी (IB) अर्धसैनिक बलों जैसे असम राइफल्स, बीएसएफ, सीआरपीएफ, आईटीबीपी जैसी खुफिया एजेंसियों का नेतृत्व दिया जाता है |

शैक्षिक योग्यता  

आईपीएस बनने के लिए अभ्यर्थियों को किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से स्नातक होना अनिवार्य है, स्नातक के अंतिम वर्ष के छात्र भी इस परीक्षा में  शामिल हो सकते है |

ये भी पढ़े:  भारत के राज्य और राजधानी की सूची

आयु 

इस पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी की आयु 21 से 30 वर्ष के बीच में होनी चाहिए | आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए  इसमें छूट दी जाती है |

शारीरिक योग्यता

अभ्यर्थी की लम्बाई 

इस पद के लिए पुरुष अभ्यर्थियों की लंबाई 165 सेंटीमीटर होनी अनिवार्य है, आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 160 सेंटीमीटर तय किया गया है तथा महिला अभ्यर्थियों के लिए लंबाई 150 सेंटीमीटर होनी जरूरी है | आरक्षित वर्ग की महिला अभ्यर्थियों के लिए 145 सेंटीमीटर है|

सीना

पुरुष अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम 84 सेंटीमीटर तय की गई है तथा महिला अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम 79 सेंटीमीटर होनी चाहिए |

दृष्टि

आईपीएस पद के लिए आई साइट 6/6 या 6/9 होना चाहिए | कमजोर आंखों के लिए  विज़न 6/12 या 6/9 होना अतिआवश्यक है |

पेपर के विषय में जानकारी –

पेपर A (क्वालिफाइंग)

इसमें कैंडिडेट्स को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल की गईं किसी भी एक भारतीय भाषा का चयन करना होगा, और यह 300 अंक का होगा |

पेपर B (क्वालिफाइंग)              

इसमें अंग्रेजी विषय होगा और यह 300 अंक का होगा |

पेपर- I                    

निबंध लेखन – यह 250 अंक का होगा |

पेपर II    

जनरल स्टडीज़-I  – इसके अंतर्गत भारतीय विरासत और संस्‍कृति, दुनिया और समाज का इतिहास, भूगोल विषय होंगे, यह 250 अंक का होगा |

पेपर III                  

जनरल स्टडीज़-II – इसके अंतर्गत गवर्नेंस, संविधान, राजतंत्र, सामाजिक न्याय और अंतरराष्ट्रीय संबंध विषय होंगे – यह 250 अंक का होगा |

पेपर IV  

जनरल स्टडीज़-III – टेक्नोलॉजी, इकनॉमिक डेवलपमेंट, बायो-डायवर्सिटी, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन आदि विषय होंगे – यह 250 अंक का होगा |

पेपर V                   

जनरल स्टडीज-IV इसके अंतर्गत आने वाले विषयों में – आचार नीति, अखंडता, एप्टीट्यूड होंगे – यह 250 अंक का होगा |

पेपर VI  

ऑप्शनल सब्जेक्ट: पेपर-I  – यह 250 अंक का होगा |

पेपर VII 

ऑप्शनल सब्जेक्ट: पेपर-II – यह 250 अंक का होगा |

कुल योग-

  • इस पद के लिए लिखित परीक्षा का कुल योग  1750 अंक का होगा
  • इंटरव्यू 275 अंक का निर्धारित किया गया |
  • कुल अंकों का योग 2025 निर्धारित किया गया |

ये भी पढ़े: भारत के प्रसिद्ध मंदिरों की सूची हिंदी में

आईपीएस पद के लिए परीक्षा में शामिल विषय

अभ्यर्थी एग्रीकल्‍चर, एनिमल हस्‍बेंड्री और वेटनरी साइंस, मानव विज्ञान, बॉटनी, केमिस्‍ट्री, सिविल इंजीनियरिंग, कॉमर्स और एकाउंटेंसी, इकनॉमिक्‍स, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, भूगोल, भू-विज्ञान, इतिहास, लॉ, मैनेजमेंट, मकेनिकल इंजीनियरिंग, मेडिकल साइंस, फिलॉसफी, फिजिक्‍स, पॉलिटिकल साइंस और अंतरराष्‍ट्रीय संबंध, मनोविज्ञान, पब्लिक एडमिनिस्‍ट्रेशन, समाजशास्‍त्र, स्‍टेटस्टिक्‍स, जू़लॉजी और भाषा (चयन की हुई) का चुनाव वैकल्पिक विषय के रूप में किया जा सकता है |

IPS का साक्षात्कार (इंटरव्यू)

जो अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा में सफलता प्राप्त कर लेते हैं, तो उन अभ्यर्थियों को साक्षात्कार के लिए जाना पड़ता  है, जो  लगभग 45 मिनट  तक जारी रखा जाता है, अभ्यर्थी का साक्षात्कार आयोग द्वारा निर्धारित समिति के समक्ष कराया जाता है | इसके बाद जिन अभ्यर्थियों का नाम मेरिट लिस्‍ट जाता है तो उन्हें ट्रेनिंग के लिए बुला लिए जाता है |

आईपीएस ट्रेनिंग 

आईपीएस पद के  लिए चुने गए अभ्यर्थियों को एक वर्ष के लिए ट्रेनिंग करनी रहती है, इनकी  ट्रेनिंग पहले मसूरी और बाद में हैदराबाद में कराई जाती है, वहां पर उनसे  भारतीय दंड संहिता, स्‍पेशल लॉ और क्रिमिनोलॉजी की ट्रेनिंग कराई जाती है |

इस पूरी पोस्ट हमने आपको आईपीएस (IPS) ऑफिसर कैसे बने | सैलरी, योग्यता, आईपीएस के अधिकार, फुल फॉर्म के बारे में सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध कार है | यदि आपको इससे सम्बंधित कोई अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप  www.usidcl.com पर विजिट कर सकते है और साथ ही आप हमारे कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने सुझाव अथवा प्रश्न पूछ सकते है |

ये भी पढ़े: सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया क्या होता है?

ये भी पढ़े: केंद्र शासित प्रदेश का मतलब क्या होता है?

ये भी पढ़े: सूचना का अधिकार अधिनियम (RTI)