बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना

भारत जैसे बड़े देश में जहाँ एक तरफ गरीबी है वहीं दूसरी तरफ नारी सम्मान में कमी देखने को मिली है, किसी भी देश को विकसित करने के लिए नारी ने कंधें से कन्धा मिला कर देश को आगे बढ़ाया है | भारत में पुरुष प्रधान की भावना चरम पर है, इसलिए बेटियों को लड़कों के सामान अधिकारों से वंचित कर दिया जाता था | भारतीय प्रधानमंत्री ने बेटियों को लड़कों के बराबर लाने के लिए बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के द्वारा लोगों की मानसिकता को बदलने का प्रयास किया है |

ये भी पढ़ें: सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक की सूची

ये भी पढ़ें: सूचना का अधिकार अधिनियम (RTI)

भारत में लिंगानुपात (Sex Ratio in India)

भारत में वर्ष 1961 से लिंगानुपात में बहुत ही अंतर देखने को मिला है यह लगातार अंतर बढ़ता हुआ पाया गया है | वर्ष 1991 में 1000 लड़कों में 945 लड़कियाँ पायी गयी थी जोकि यह आकड़ा वर्ष 2011 की जनगणना में 1000 लड़कों पर 918 तक हो गया है | यह एक गंभीर चिंता का विषय बना हुआ है | इसके लिए भारत सरकार और राज्य सरकार ने भ्रूण हत्या जैसे कड़े कानून बनाये है और बेटियों के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत की है |

ये भी पढ़ें: पटवारी (PATWARI) कैसे बने?

ये भी पढ़ें: बिजली का नया कनेक्शन कैसे ले?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना (Beti Bachao Beti Padhao Scheme)

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का प्रारम्भ 22 जनवरी 2015 को पानीपत में भारतीय प्रधानमंत्री जी के द्वारा किया गया था | इस योजना का मुख्य उद्देश्य लोगों की मानसिकता में परिवर्तन लाना है | इसके अंतर्गत इन क्षेत्रों पर कार्य करने का निर्णय लिया गया है-

  • कन्या भ्रूण हत्या का रोकथाम |
  • कन्याओं की सुरक्षा व समृद्धि |
  • बालिकाओं की शिक्षा और भागीदारी सुनिश्चित करना |

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना एक बड़ा अभियान है, इस अभियान का संचालन महिला और बाल विकास मंत्रालय द्वारा किया जा रहा है, इसको सशक्त बनाने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय को भी जोड़ा गया है | यह तीनों विभाग जमीनी स्तर से आंगनबाड़ी, एएनएम, आशा बहू और जिम्मेदार व्यक्तियों व अधिकारियों को प्रशिक्षित करेंगे | प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरांत यह सभी अपने- अपने क्षेत्र में जाकर लोगों को जागरूक करेंगे | यदि इनके क्षेत्र में भ्रूण हत्या, बाल विवाह और बालिका भेद- भाव जैसी शिकायत प्राप्त होती है, प्रशिक्षण प्राप्त अधिकारियों और कार्यकर्त्ताओ को जिम्मेदार माना जायेगा | भ्रूण हत्या, बाल विवाह होने पर अपराधी के साथ इन अधिकारियों पर भी कार्यवाही की जाएगी | बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना में लड़कियों की पढ़ाई और उन्हें स्वावलंबी बनाने की कोशिश की जाती है, योजना के तहत किसी भी तरह की नकद सहायता का प्रावधान नहीं है |

ये भी पढ़ें: अपनी जमीन कैसे देखे?

लाभ

इस योजना के द्वारा इस प्रकार के लाभ प्राप्त होंगे-

  • बालक और बालिका को एक सामान अधिकार |
  • लिंग-अनुपात में कमी |
  • कन्या भ्रूण हत्या पर पूरी तरह से रोक
  • बाल विवाह पर पूरी तरह से रोक
  • बालिका शिक्षा में बढ़ोत्तरी |

ये भी पढ़ें: जज (JUDGE) कैसे बने?

यहाँ पर हमनें बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: क्लर्क (CLERK) कैसे बने?

ये भी पढ़ें: बीटेक (B.TECH) क्या है?

ये भी पढ़ें: बीएड (B.ED) कोर्स क्या है?