बीएड की तैयारी कैसे करे?

आपने कभी ना कभी किसी माध्यम से बीएड शब्द अवश्य सुना होगा | शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ने के लिए बीएड एक कोर्स है | इस कोर्स को करने के बाद आप एक प्रशिक्षित अध्यापक के रूप में सरकारी या प्राइवेट विद्यालय में चयनित हो सकते है | यदि आप एक शिक्षक बनना चाहते है तो आपके लिए यह बहुत ही उपयुक्त कोर्स है | इस कोर्स में बच्चों को पढ़ाने के विषय में जानकारी दी जाती है |

ये भी पढ़ें: बीएड (B.ED) कोर्स क्या है?

बीएड क्या है (What is Bed)?

बीएड एक डिग्री कोर्स है, इसे बैचलर ऑफ ट्रेनिंग के नाम से जाना जाता है | इस कोर्स की अवधि अलग अलग देशों में अलग- अलग है | आस्ट्रेलिया में इसकी अवधि 4 वर्षीय है | भारत में यह 2 वर्षीय है, कुछ समय पहले इसकी अवधि एक वर्ष की थी | सत्र 2015- 16 से इसे 2 वर्षीय कर दिया गया | यह कोर्स पांच वर्ष की अधिकतम अवधि में पूरा किया जा सकता है | इस कोर्स में क्लास रूम टीचिंग के अलावा प्रक्टिकल्स, ट्रेनिंग और इंटर्नशिप भी शामिल रहती है | इसे रेगुलर मोड या डिस्टेंस मोड से किया जा सकता है | डिस्टेंस मोड उन छात्रों के लिए उपयुक्त है जो प्रति दिन कॉलेज नहीं जा सकते है |

ये भी पढ़ें: शिक्षक दिवस क्या है?

बीएड का फुल फॉर्म (Full Form)

बीएड का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ एजुकेशन (Bachelor of Education) है | यह एक डिग्री कोर्स है, इसे बैचलर ऑफ ट्रेनिंग (Bachelor of training) भी कहा जाता है |

योग्यता (ELIGIBILITY )

बीएड के लिए आपको किसी संकाय में 50 प्रतिशत के साथ स्नातक उत्तीर्ण होना अनिवार्य है, आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों को नियमानुसार छूट प्रदान की जाती है |

ये भी पढ़ें: रिट क्या है?

परीक्षा पैटर्न (Exam Pattern)

संयुक्त प्रवेश परीक्षा के प्रश्न पत्र में दो अलग-अलग भाग होते है, प्रथम प्रश्न पेपर और द्वितीय प्रश्न पेपर

  • प्रथम प्रश्न पेपर में बहुविकल्पीय प्रकार के प्रश्न पत्र पूछे जाते है, यह 200 अंक के होते है | इसके अंतर्गत सब्जेक्ट- पार्ट ए (सामान्य ज्ञान), पार्ट बी (भाषा हिंदी या अंग्रेजी) का होता है |
  • द्वितीय प्रश्न में सब्जेक्ट- पार्ट ए (सामान्य योग्यता टेस्ट), पार्ट बी (आर्ट/ साइंस/ कॉमर्स/ एग्रीकल्चर) को हल करना होता है | द्वितीय प्रश्न में आपको अपनी स्ट्रीम के अनुसार प्रश्नों को हल करना होता है |

ये भी पढ़ें: जीएनएम (GNM) कोर्स क्या है

बीएड प्रवेश परीक्षा सिलेबस (Syllabus)

सामान्य ज्ञान अंग्रेजी भाषा हिन्दी भाषा
इतिहास

भूगोल

राजनीति

सामाजिक मुद्दे से जुड़ा सवाल

सामान्य विज्ञान

पंचवर्षीय योजना

सामयिकी

अन्य विविध प्रश्न

समझबूझ कर पढ़ना

रिक्त स्थान भरें

गलतियों का सुधार

विलोम / समानार्थी

मुहावरे और वाक्यांश

वर्तनी की गलती

एक शब्द प्रतिस्थापन

संधि / समास

उपसर्ग और प्रत्यय

रस / छन्द / अलंकार

मुहावरों और लोकोक्तियाँ / कहावते

कई शब्दो के लिए एक शब्द

गद्यांश

रिक्त स्थान की पूर्ति

व्याकरण

पर्यायवाची / विपरीतार्थक शब्द

सामान्य एप्टीट्यूड टेस्ट विषय क्षमता

 

आंकड़े / मौखिक वर्गीकरण

कोडिंग और डिकोडिंग

खून का रिश्ता

पंचांग

संख्या / प्रतीक श्रृंखला

प्रश्न-शब्दकोश से संबंधित

विआन आरेख / पासा

पहेली / सारणीकरण

गैर-मौखिक श्रृंखला

तार्किक कटौती

संख्या प्रणाली

एचसीएफ और एलसीएम

अंकगणित समस्या (समय और दूरी, लाभ और हानि, समय और काम, उम्र पर समस्या, सरल और चक्रवृद्धि ब्याज आदि)

सरलीकरण

अन्य मात्रा और तर्क विविध प्रश्न

इस खंड में चार विषय (कला, विज्ञान, वाणिज्य, कृषि) हैं। छात्र अपनी शैक्षिक पृष्ठभूमि से संबंधित एक विषय का चयन कर सकते हैं |

बीएड की तैयारी (Preparation) कैसे करे

बीएड में प्रवेश प्राप्त करने हेतु राज्य सरकार के द्वारा प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है | इस परीक्षा में उत्तीर्ण होने छात्र बीएड में प्रवेश ले सकते है-

टॉपिक वाइज

प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने के लिए आपको परीक्षा में पूछे जाने वाले सभी विषयो पर बराबर ध्यान देना होगा | जिस टॉपिक पर प्रश्न पूछे जायेंगे आपको उन सभी की पुस्तकें अलग रखना होगा आपको अपनी तैयारी टॉपिक वाइज करनी होगी |

ये भी पढ़ें: आईआईटी जैम (IIT JAM) क्या होता है?

एकान्त स्थान पर पढ़ाई करे

प्रवेश परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए आपको एकान्त स्थान पर पढ़ाई करनी चाहिए | इससे आप अपने विषय पर एकाग्र हो पाएंगे | आप कम समय में अधिक से अधिक टॉपिक को याद कर सकते है |

ये भी पढ़ें: बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना

पाठ्यक्रम के अनुरूप

आपको अपनी तैयारी पाठ्यक्रम के अनुरूप करनी चाहिए | इससे परीक्षा में पूछे जाने वाले टॉपिकों को पूरा कवर किया जा सकता है | पाठ्यक्रम से आप से कोई भी टॉपिक छूट नहीं पायेगा |

पुराने प्रश्न पत्रों (Old Question Papers) का अध्ययन करे

अच्छी तैयारी करने के लिए आपको पिछले वर्षों में पूछे गए सभी प्रश्न पत्रों को हल करना चाहिए इससे आप परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के स्तर को आसानी से समझ पाएंगे |

ये भी पढ़ें: ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?

यहाँ पर आपको एसएससी MTS के विषय में जानकारी दी गयी है | इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप https://usidcl.com पर विजिट कर सकते है | अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़ें: ग्राम प्रधान (GRAM PRADHAN) कैसे बने?

ये भी पढ़ें: बैंक पीओ (BANK PO) कैसे बने?