बाल दिवस में क्या होता है

भारत में प्रतिवर्ष 14 नवंबर को बहुत ही धूमधाम के साथ बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है, क्योंकि 14 नंवबर को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु का जन्मदिन है | पंडित जवाहर लाल नेहरु बच्चों से बहुत अधिक प्रेम करते थे, इसलिए 14 नवंबर को उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है| बाल दिवस में क्या होता है? और बाल दिवस 14 नवंबर को क्यों मनाया जाता है, इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है|

ये भी पढ़े: शिक्षक दिवस क्या है?

बाल दिवस क्या होता है (What Is Childrens Day)

बाल दिवस के दिन सभी स्कूलों, दफ्तरों में बच्चों द्वारा विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है, इसके साथ ही विभिन्न संस्थाओं निबंध लेखन प्रतियोगिता तथा अन्य कई प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है । इस ख़ास अवसर पर बच्चों को उनके अधिकारों और योग्यताओं के बारे में अवगत कराया जाता है | इस दिन बच्चों को ख़ास उपहार भेंट में दिए जाते हैं | इस दिन बच्चों को उपहार में नये कपड़े और किताबें दी जाती है। इस तरह पूरे देश में 14 नवंबर को बहुत उत्साह के साथ बाल दिवस का आयोजन किया जाता है |

बाल दिवस हमारे देश के लिए आवश्यक है (Why Childrens Day Is Necessary)

ये सब तो आप अच्छी तरह जानते हैं कि, बच्चे हमारे देश के भविष्य होते है | इसलिए उनके उज्ज्वल भविष्य और उनमें बेहतर  सुधार के लानें के उद्देश्य से बाल दिवस मनाया जाता है | बाल दिवस  के इसी ख़ास मौके पर कार्यक्रमों का आयोजन करते हुए बच्चों के टैलेंट को भी परखा जाता है |  बाल दिवस  देश के उज्ज्वल भविष्य के लिये और बच्चों की सही स्थिति  के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है।

ये भी पढ़े: भारत के राज्य और राजधानी की सूची

बाल दिवस 14 Nov को क्यों मनाया जाता है (Why Children’s Day Is Celebrated on 14 Nov)

14  नवंबर को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म हुआ था | उनके जन्म दिन के इस ख़ास अवसर पर 14 नवम्बर को बाल दिवस के रूप में मनाया जाने लगा क्योंकि, नेहरू जी बच्चों से अत्याधिक प्रेम करते थे उन्हें बच्चों के प्रति बहुत  लगाव था और वह बच्चों को देश के भावी निर्माता के रूप मानते थे। इसके साथ ही सभी बच्चे उन्हें चाचा नेहरू  के नाम से भी पुकारते है।

बाल दिवस मानने का एक प्रमुख कारण यह भी बताया गया है कि,  बाल दिवस के इस मौके पर बच्चों के अधिकारों तथा अच्छे पालन-पोषण के विषय में पूरी तरह से जागरुक भी किया जा सके क्योंकि,  बच्चे ही हमारे देख के भविष्य होते है | इसलिये देश के हर नागरिक को बच्चों के प्रति अपनी जिम्मेदारी को बखूबी समझने की आवश्यकता है |

ये भी पढ़े: उत्तर प्रदेश में कितनी तहसील है?

यहाँ पर हमनें 14 नवंबर के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी, यदि आपको इस प्रकार की कोई अन्य जानकारी लेनी हो तो आप  https://usidcl.com पर विजिट कर सकते है | इसके साथ ही अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा किसी प्रकार का प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है|

ये भी पढ़े: सरकारी बैंक में क्लर्क कैसे बने?

ये भी पढ़े: संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) क्या है?